Showing posts with label police sub inspector. Show all posts
Showing posts with label police sub inspector. Show all posts

Wednesday, August 4, 2021

Astrological Yogas to join Police force - police mein selection ke yog

             पुलिस अधिकारी बनने के लिए ज्योतिष योग

Acharya Raman 7566384193

ऐसे कई लोग हैं जो I.P.S बनना चाहते हैं। अधिकारी। कुछ सफल होते हैं, जबकि जो लोग I.P.S अधिकारी बनने के अपने सपने को पूरा नहीं कर पाते हैं, वे I.P.S से निचले स्तर पर पुलिस विभाग में शामिल हो जाते हैं। या स्वप्न को बिलकुल छोड़ दें। एक इंस्पेक्टर, सब-इंस्पेक्टर, डी.एस.पी, या ए.एस.पी के रूप में यह अधिकारी का कर्तव्य है कि वह राज्य में कानून और व्यवस्था बनाए रखे और अपराध को नियंत्रित करे। कुछ ऐसे भी हैं जो इस पेशे में हैं लेकिन बिना वर्दी के काम करते हैं। वे गुप्त एजेंटों के रूप में या अपराध जांच की शाखा में अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे हैं।



वैदिक ज्योतिष के अनुसार जो लोग अपने पेशेवर जीवन में वर्दी पहनते हैं, उनकी जन्म कुंडली में मंगल और शनि का प्रमुख योगदान होता है। मंगल के प्रभाव से जातक को इस क्षेत्र के लिए शक्ति, साहस, जोश और उत्साह प्राप्त होता है। सेना और रक्षा के क्षेत्र में साहस प्रमुख संपत्ति है। शनि व्यक्ति को अनुशासित होने के साथ-साथ सख्त भी बनाता है। शनि को न्याय और दंड का ग्रह कहा जाता है।

महत्वपूर्ण भाव: पहला, तीसरा, छठा, आठवां और दसवां घर

जन्म कुण्डली का प्रथम भाव व्यक्ति का शरीर माना जाता है। यह व्यक्ति के रंग, ऊंचाई और रूप-रंग को भी निर्धारित करता है। यदि मंगल इस भाव में हो तो वह बलवान होता है। व्यक्ति का झुकाव चुनौतीपूर्ण और साहसिक गतिविधियों को करने की ओर होगा। पुलिस अधिकारी बनने के लिए जन्म कुण्डली में लग्न पर मंगल का प्रभाव होना चाहिए।



जन्म कुण्डली में तीसरा भाव साहस और नेतृत्व का भाव है। मंगल इस भाव का कारक है। यदि लग्न या लग्न का स्वामी इस भाव के साथ संबंध में है और मंगल का भी इस भाव पर प्रभाव है तो वह साहसी होगा और अपने देश की सेवा करेगा। उसे छठे भाव से अपने शत्रुओं से लड़ने की शक्ति मिलेगी और मंगल ही एकमात्र ऐसा ग्रह है जो व्यक्ति को अपने शत्रुओं को हराने में मदद करता है।

अष्टम भाव से सारे रहस्य खुलेंगे। जो अधिकारी अपने पेशे में रिश्वत लेते हैं, उनकी जन्म कुण्डली में अष्टम भाव के साथ-साथ उन भावों का भी प्रभाव होगा जो उनकी जन्म कुंडली में पुलिस अधिकारी का योग बनाते हैं। अष्टम भाव उनके काले धन को गुप्त रखेगा। यदि इस भाव से कई पाप ग्रह जुड़े हों तो इनके जीवन में काला धन कमाने की संभावनाएं बनी रहती हैं। जब ये घर दशम भाव से संबंध बनाते हैं तो व्यक्ति पुलिस विभाग में शामिल हो जाता है क्योंकि दशम भाव व्यवसाय का घर होता है। अगर इन भावों के बीच संबंध मजबूत होंगे तो शुभ रहेगा।



महत्वपूर्ण ग्रह: मंगल, शनि, राहु और केतु

मंगल वह ग्रह है जो शक्ति और साहस की गतिविधियों से जुड़ा है। मंगल व्यक्ति को साहसी कार्य करने में मदद करता है क्योंकि मंगल इस क्षेत्र पर शासन करता है। शनि को अनुशासन का क्षेत्र दिया गया है। वे सभी पेशे जिनमें अनुशासन एक प्रमुख आवश्यकता है, शनि से जुड़े हैं।

सेना में भर्ती होने वाले सैनिकों की जन्म कुण्डली में ये योग होते हैं। ज्योतिष में पुलिस और सेना के पेशों के बीच अंतर करने के लिए मंगल के शुभ/हानिकारक प्रभावों पर विचार किया जाना चाहिए।



सेना में शामिल होने की संभावना तब अधिक होती है जब अन्य योगों के साथ मंगल का व्यक्ति की जन्म कुंडली में शुभ प्रभाव होता है। मंगल का अशुभ प्रभाव पुलिस सेवाओं में शामिल होने की संभावनाओं को इंगित करता है।

यदि राहु का संबंध लग्न / लग्न के स्वामी या दशम भाव / स्वामी के साथ है, तो व्यक्ति नीति निर्माण में अच्छा होगा। मंगल और केतु का संबंध इस क्षेत्र में बहुत मदद करने वाला माना जाता है।

अन्य योग :-

• यदि मंगल और शनि का संबंध नवांश कुंडली में दशम भाव/स्वामी या दशम भाव के समान संबंध से है तो सेना या पुलिस विभाग में शामिल होने की संभावनाएं बढ़ जाएंगी।

• यदि शुक्र लग्न का स्वामी है और नवम भाव में मंगल के साथ युति करता है और उनका चंद्रमा के साथ एक दृष्टि संबंध है जो कि दशम का स्वामी है और बृहस्पति जो तीसरा स्वामी है। यदि शनि जो अनुशासन और लोक का कारक माना जाता है, ग्यारहवें स्वामी के साथ युति में हो अर्थात सूर्य और बुध चौथे भाव में हो जिस पर राहु की पंचम दृष्टि हो तो व्यक्ति पुलिस विभाग में शामिल होता है।

 मीन लग्न की कुण्डली में यदि मंगल नवम भाव का स्वामी हो और एकादश भाव पर दृष्टि रखता हो। और यदि शनि एकादश या बारहवें भाव का स्वामी है और लग्न में तीसरे भाव का स्वामी शुक्र के साथ स्थित है और लग्नेश या दशमेश उस पर दृष्टि रखता है। बुध और सूर्य छठे भाव में हैं तो इन योगों के कारण पुलिस अधिकारी बनने की संभावनाएं अधिक होंगी।

• गुप्त एजेंट या जांच विभाग में काम करने के लिए मंगल और केतु का संबंध अनिवार्य है। यदि वे अष्टम भाव/स्वामी, दशम भाव/स्वामी, लग्न/ लग्न स्वामी या तृतीय भाव/स्वामी के साथ संबंध बनाते हैं तो भी व्यक्ति पुलिस विभाग में सेवा करेगा।

• यदि अष्टमेश लग्न या लग्नेश पर दृष्टि रखता हो और केतु या मंगल उस पर प्रभाव डालता हो तो व्यक्ति का रुझान पुलिस विभाग में गुप्त एजेंट के रूप में काम करने की ओर होता है।

Bhava Lords in Houses