भाग्येश भाग्य स्थान स्वामी का 12 भावों में प्रभाव


नवम भाव का 12 भावों में प्रभाव (भाग्‍य भाव)


FOR HOROSCOPE CONSULTATION WATTSAPP +917566384193

प्रथम भाव में
आप जो कुछ करते हैं अपने आप करते हैं। अपने प्रयासों से खूब धन कमाते हैं। आपके पिता की दीर्घायु होती है। जीवन में आपको अपने पिता की सहायता मिलती है। आप उच्‍च शिक्षा प्राप्‍त करते हैं और ज्ञानी होते हैं। अपने इस ज्ञान के लिए आपको सम्‍मान भी मिलता है। आप किसी धार्मिक संस्‍थान के प्रधान बन सकते हैं। आप अपने शिक्षकों का बहुत आदर करते हैं।
दूसरे भाव में
आपके पिता बहुत समृद्ध होते हैं। आपको अपने पिता की संपत्ति से वंचित रहना पड़ सकता है। आपके पिता बहुत प्रभावशाली व्‍यक्‍ति होते हैं। आप हमेशा सच बोलते हैं। आपको धर्म, ज्‍योतिष आदि का गहन ज्ञान होता है। धन कमाने के लिए आपको कहीं दूर जाना पड़ सकता है। वाहन, यात्रा, धर्म आदि आपकी आय के स्रोत बनते हैं।
तीसरे भाव में
आपमें धर्म और फिलॉस्‍फी आदि पर लिखने की क्षमता होती है। आप लेखन, भाषण, प्रकाशन आदि से धन कमाते हैं। आप एक अच्‍छे संगीतज्ञ बन सकते हैं या इस क्षेत्र में अपना भविष्‍य बना सकते हैं। तीर्थयात्रा या विदेश यात्रा के भी योग हैं। आप धार्मिक गुरु, वकील या शिक्षक आदि बन सकते हैं।
चौथे भाव में
आपका घर बहुत अच्‍छा होता है। आपके पास बहुत जमीन-जायदाद होती है। जमीन से संबंधित व्‍यापार में तरक्‍की करते हैं। आपकी माता समृद्ध और प्रभावशाली महिला होती हैं। वे बहुत भाग्‍यवान होती हैं। आप बेहतर शिक्षा प्राप्‍त करते हैं। दोस्‍तों का पूरा सहयोग मिलता है। हर कदम पर आप दोस्‍त बनाते हैं।
पंचम भाव में
आपको उत्तम संतान की प्राप्‍ति होती है। वे जीवन में बहुत तरक्‍की करते हैं। आपके पिता प्रभावशाली व्‍यक्‍ति होते हैं। आपको हमेशा किसी दैवीय शक्‍ति की सुरक्षा प्राप्‍त होती है। मुसीबत आने से पहले आपके पास उसका हल आ जाता है। अनजान लोग तक आपकी मदद करते हैं। अध्‍यात्‍म, धर्म, फिलॉस्‍फी आदि में आपकी गहरी रूचि होती है। आपको पैसों से संबंधित कोई परेशानी नहीं होती।
छठे भाव में
आपके पिता की सेहत खराब रहती है। आपको कोई घातक रोग हो सकता है। आप सेना, पुलिस आदि से जुड़ सकते हैं। आप लोगों की सेवा करने में ज्‍यादा रूचि रखते हैं। किसी भी विषय पर सोच-समझकर प्रतिक्रिया दें वरना आपको परेशानी हो सकती है। आप कानून के क्षेत्र से जुड़कर भी लोगों की सहायता कर सकते हैं। आपको अनैतिकता बिलकुल पसंद नहीं होती है।
सप्‍तम भाव में
आपको और आपके पिता को विदेश या किसी दूरवर्ती स्‍थान से लाभ होता है। आप विदेश में धार्मिक गुरु बन सकते हैं। आपका जीवनसाथी बहुत अच्‍छा होता है और आपका वैवाहिक जीवन भी सुखमय रहता है। आपकी शादी संपन्‍न परिवार में होती है। आप आध्‍यात्मिक व्‍यक्‍तित्‍व के होते हैं।
अष्‍टम भाव में
आपके परिवार में किसी की जल्‍दी मृत्‍यु हो सकती है। शुरुआती जीवन में आपको गरीबी में रहना पड़ सकता है। आपको बहुत मेहनत करनी पड़ती है और आपके ऊपर कई जिम्‍मेदारियां होती हैं। आप अपनी संस्‍कृति और धर्म को पूरी तरह से नहीं अपनाते हैं और नास्तिक बन जाते हैं। पैसों के लिए आप जादू-टोन में लिप्‍त रह सकते हैं। यात्रा के दौरान आपके साथ चोरी हो सकती है। आप अपने गुरु को आदर और सम्‍मान नहीं देते हैं।
नवम भाव में
आपके पिता की दीर्घायु होती है। आप बहुत धार्मिक और दानी होते हैं। आपकी रूचि फिलॉस्‍फी, धर्म और संस्‍कृति में होती है। आपको कई स्‍थानों पर यात्रा करनी पड़ती है। आप खुद अपना नाम बनाते हैं। आप आसानी से पैसा कमाते हैं और प्रसिद्ध होते हैं। आप दूसरों पर हुकुम चलाते हैं और बहुत अच्‍छे नेतृत्‍वकर्ता बनते हैं।
दशम भाव में
आप अपने जीवन में बहुत लो‍कप्रिय बनते हैं। आपके सकारात्‍मक व्‍यवहार के कारण लोग आपका सम्‍मान करते हैं। कई प्रभावशाली लोग आपके दोस्‍त होते हैं। आपके ऊपर ईश्‍वर की कृपा रहती है। आप खुद अपना नाम बनाते हैं। भाग्‍य का साथ मिलता है। परिवार और शिक्षकों का भी पूरा सहयोग प्राप्‍त होता है। आप जिस भी क्षेत्र में जाते हैं उसमें आपको सफलता मिलती है। आपकी बुद्धिमानी की प्रशंसा होती है।
ग्‍यारहवे भाव में
आप बहुत प्रभावशाली परिवार में जन्‍म लेते हैं। आपको बहुत संपन्‍नता प्राप्‍त होती है। आपके कई प्रभावशाली और शक्‍तिशाली दोस्‍त होते हैं। आप राजनीति में सफल होते हैं। आप मोल-भाव में निुणण होते हैं। आप हमेशा सही काम करने की कोशिश करते हैं। आप अपने जीवन में कई लोगों को प्रसन्‍न रख पाते हैं।
बारहवे भाव में
आपके परिवार में किसी सदस्‍य की जल्‍दी मृत्‍यु हो सकती है। आपको अपने जीवन में छोटी-छोटी चीज़ों के लिए भी मेहनत करनी पड़ती है। बहुत मेहनत करने पर भी ज्‍यादा अच्‍छे परिणाम नहीं मिल पाते हैं। आपको अपने पिछले जन्‍म के बुरे कर्मों का फल इस जन्‍म में भोगना पड़ता है। आपके दिल और दिमाग पर तनाव छाया रहता है। योग में आपकी रूचि होती है। दोस्‍तों और परिवार से ज्‍यादा सुख नहीं मिल पाता है।


No comments:

Post a Comment

Bhava Lords in Houses