Skip to main content

Posts

Showing posts from 2020

coronavirus prevention and possible astrological cure

coronavirus prevention and possible astrological cure यह छोटा लेखन कोरोनोवायरस के बारे में है जो विश्व को सता रहा है। कोरोनावायरस वायरस के बड़े परिवार हैं जो ज्यादातर श्वसन प्रणाली को पीड़ित करते हैं। उनमें से अधिकांश मुख्य रूप से बिल्लियों, चमगादड़ और पक्षियों जैसे जानवरों को संक्रमित करते हैं। 2019-nCoV, SARS और MERS सहित केवल कुछ और गिनती 7 है, मनुष्यों को संक्रमित करने के लिए जाना जाता है इन वायरस का मुख्य आक्रमण चीनी शहर वुहान में 11 मिलियन आबादी के साथ हुआ। चीनी लोग चमगादड़ का सूप पीते हैं और वे जो भी गंदगी खाते हैं उसे गेहूं और पानी की तरह पीते हैं। तो एक न एक दिन ऐसा ही कुछ होना तय था। लेकिन वह अलग बात है सबसे आम लक्षण बुखार खांसी और मांसपेशियों में दर्द हैं। कम लोग बलगम या खून, खांसी और दस्त से पीड़ित हैं। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में सुझाव दिया गया है और अपुष्ट हैं कि कोरोनावायरस महामारी बन गया है और चीन ने वुहान शहर के पास 12000 से अधिक शवों को जला दिया है सीटी स्कैन में सभी रोगियों को निमोनिया और प्रभावित फेफड़े थे। इस प्रकार जो मुख्य हिस्सा प्रभावित होने वाला है, वह है

लोहड़ी का त्योहार

                                                           लोहरी  लोहरी (लोहड़ी ) को पौष मास के अंतिम दिन , मकर संक्रांति  से एक दिन पहले मनाया जाता है। यह मुख्यतः पंजाब में मनाया जाता है और हर वर्ष यह १२  या १३ जनवरी को आता है।  कुण्डली दिखाने के लिए वॉटसअप्प कीजिये 7566384193। यह  न सिर्फ मौसमी त्यौहार है बल्कि इसके पौराणिक महत्त्व भी कहीं कहीं पढ़ने को मिलता है। बहुत लोग इसे दक्ष प्रजापति की पुत्री सती के योगाग्नि में भस्म होने की याद से जोड़ते हैं , इस अवसर पर माताएं अपनी विवाहित पुत्र्यिों के घर सामान भेजती हैं जो की अपनी अपनी सहूलियत के अनुसार होता है और इसमें मिठाई , फल आदि भी रहते हैं। लोहड़ी को दुल्ला भट्टी  की कहानी से भी जोड़ा जाता है , वह एक चोर था जो गरीब लोगों की मदद करता था और उनके लिए आवाज़ बुलंद किया करता था। बच्चे उसके गीत गाते हैं और बदले में उनको मिठाई और धन मिलता है जिसे वे लोहरी के दिन रेवड़ियां खरीद कर खर्च करते हैं। इस दिन पंजाबी लोग बाहर आग जलाकर बैठते हैं और अग्नि में बहुत साड़ी वस्तुएं सारी वस्तुएं भस्म करते हैं। इसी दिन नाच गाना  भी होता है ,”भंगड़ा” और “गिद्

Who will win New Delhi 2020 vidhan sabha election

Today the dates for election in New Delhi have been declared. The main contestants are AAP, BJP, INC and funnily they are true not only alphabetically but also real position-wise too in New Delhi.  Let us  talk a bit about all the three parties and my this “talk” is simply based on media news reports and my views are not at all personal.  So, to begin with, AAP now seems to be doing a lot for the common man or the aam aadmi and they have been very successful in implementing many of their election promises as told in their facebook posts and in the news adverts. So I will say that they are working and now when I see the media and people talk on social engagements I hear a positive word about this party AAP. Coming to the second party which is the BJP which has already lost 6 states just for the fact that they do not have charismatic leaders like once congress used to have and they are not a two-man party and the irony is even in the gram panchayat elections thei