Friday, September 27, 2019

CANADA VISA Application got approved at given time

On 25TH August I got a call from a native. She had filed a VISA for CANADA. She told me that it got rejected for no reason at all!!!! The papers were fine and there was nothing negative about the whole thing but it got rejected. I saw the ongoing dasa: She is running Jupiter mahadasha and the antara was of Saturn till 04-11-2020. Premium certified NEELAM STONE from Amazon Buy Nowthe pratyantara dasa was of venus till 22-08-2019 and Sun was about to start.

Venus in the horoscope is placed in the star of Saturn and in the sub of mars. Mars is in the 4th bhava in the horoscope in the cusp chart. Thus the application was to be rejected because 4thPremium certified NEELAM STONE from Amazon Buy Now house is not the house positive for abroad connection.

Sun, on the other hand, is in the star sub andPremium certified NEELAM STONE from Amazon Buy Now sub-sub of Sun itself and is placed in the 9th bhava in the cusp chart. 9th house is the house of foreign travel. I told her that you apply in this Premium certified NEELAM STONE from Amazon Buy Nowperiod of Sun and surely there will be positive news. She reapplied on 31st August 2019.

On the 11th of September, her message came that she has got the VISA. Premium certified NEELAM STONE from Amazon Buy NowThanks to KP System and Guruji Shri KSK.

FOR PAID PREDICTIONS WATTSAPP ME ON +917566384193

Thursday, September 26, 2019

all about the nakshatras


NAKSHATRA                                 PLANET        PURPOSE           ANIMAL               DEITY
1. Ashwini – Twin Horses               Ketu             Dharma                            Horse             Kumar
2. Bharani – Bearer-woman          Venus                 Arth                       Elephant              Yama
3. Krittika – Cutting woman             Sun                  Kaam                 Goat                          Agni
4. Rohini – Red woman   Moon    Moksha Serpent Brahma
5. Mrigasira – Head of a deer       Mars      Moksha Serpent Soma
6. Ardra – Moist One       Ranu      Kaam     Dog        Rudra
7. Punarvasu – Return of the Light             Jupiter   Arth       Cat         Aditi
8. Pushya – Nourishing    Saturn   Dharma Goat      Brihaspati
9. Ashlesha – The embracer          Mercury               Dharma Cat         Ahi
10. Magha – The great one           Ketu       Artha     Rat         Pitragana
11. Purva Phalguni – Former reddish one  Venus    Kaam     Rat         Bhagya
12. Uttara Phalguni – Latter reddish one  Sun         Moksha Cow       Surya
13. Hasta – The hand       Moon    Moksha Buffalo  Savita
14. Chitra – The bright one            Mars      Kaam     Tiger      Vishwakarma
15. Swati – Sword or Independence           Ranu      Arth       Buffalo  Pawan
16. Vishakha – Fork shaped(having branches)         Jupiter   Dharma Tiger      Satragni
17. Anuradha – Disciple of divine spark     Saturn   Dharma Tiger      Mitra
18. Jyestha – The eldest  Mercury               Arth       Deer      Indra
19. Moola – The Root     Ketu       Kaam     Dog        Niriti
20. Purva Ashadha – The Undefeated        Venus    Moksha Monkey               Toya
21. Uttara Ashadha – latter Undefeated   Sun         Moksha Mongoose          Vishwadeva
22. Sravana – Hearing     Moon    Arth       Monkey               Hari
23. Dhanishta – The richest one   Mars      Dharma Lion       Vasu
24. Shatabhisha – Hundred healers            Ranu      Dharma Horse    Varuna
25. Purva Bhadrapada – Former happy feet            Jupiter   Arth       Lion       Ajapada
26. Uttara Bhadrapada – Latter happy feet             Saturn   Kaam     Cow       Abhihbadhnu
27. Revati – The wealthy               Mercury               Moksha Elephant              Pushan

Benefits of astrological yantra



Vedic astrology is supposed as the part of vedas. In astrology there are many remedeis subscribed for the planets and yantras is one of them. There is  a very long description of yantras in the scriptures and by using them in the right way one can get rid of his or her many problems.
The entire process is given in the scriptures and one should follow them religiously to attain his desired result. The yantras are of various shapes like circles, vertical triangles, downward triangles, squares that represent the five elements(sky, air, fire, water and earth). I am giving few important yantras with the vidhi(procedure) to establish them.
Vyapaar vriddhi yantra or the profit increasing yantra
This is a very powerful yantra meant for people doing business. This yantra makes one get more profits from his business activities. This not only paves way for better profits but also gives the natuve new ideas to get money from other sources as well. It also protects the busienss from evil eye and jealousy afflictions of the rivals and others. People who are constantly facing losses in their business should use this yantra as a must as it will surely prove very beneficial for them in the long run.
The process of setting up the yantra:
One should consult an able panditji or astrologer to know the right muhurta. Although settting up this yantra on Sunday of brighter half of moon cycle is considered to eb auspicious.
One should chant this mantra 108 or 1008 times after putting up this yantra.
 ''ॐ श्रीं महालक्ष्म्यै नम: / oṃ śrīṃ mahālakṣmyai nama:"
One can put this yantra in his office safe or cash box or in the home safe or cash box or in the puja room. The native should worship this yantra daily so that the positive energies are radiated on dialy basis which will destroy the negativities.
Saraswati Yantra
As it is evident from the name, this yantra is for Goddess Saraswati, the Goddess of knowledge and learning. She is also the goddess of righteousness. This yantra is very essential for students of any grade or class or age as by using this yantra one is able to do better in his studies and outperform others. One can get success in competitive exams and lead a comfortable life.
The process of setting up the yantra:
The most auspicious day to put this yantra is vasant panchami or one can do it on Thusrday. One should consult the pandit ji for setting up this yantra. One should take bath and wear yellow or light colored clothes. After that one should take this yantra in the pooja room or in the study room and bathe the yantra with panchamrit. After this yellow or red flowers should be offered to the yantra.
One should bow in front of Goddess Saraswati mentally and chat the  mantra, "ॐ ऐं सरस्वत्यै नम: / oṃ aiṃ sarasvatyai nama:"108 or 1008 times. After this one should put the yantra in the study room.
Kuber Yantra
Lord Kubera, as all know, is the lord of wealth. Worshipping the kubera yantra, one is blessed with loads of wealth in his life. All kind of material gains come to him. He lives a kingly life and does many good things in his life. One should put this yantra in his home safe or in the cash box or in the office. This yantra paves the way to get wealth from other sources too. This yantra can be used by any person and it has the power to bring any one from rags to riches.
The process of setting up the yantra:
This yantra is put up on the occasion of dhanteras or dipawali. Or if one wants he can put up this yantra by consulting an able pandit or astrologer. Onwe should soak the yantra in panchamrit and then offer red flowers. Then one should chant this mantra 108 or 1008 times:  ''ॐ कुबेराय नम: / oṃ kuberāya nama:''. After this one should place it in the office, home or shop as dsired by the native.
Mahalaxmi Yantra
Goddess Mahalakshmi is the prime Goddess of wealth and happiness. She can do anything in the life of a native. She has the power to make a pauper a king. One should seek the blessings of Goddess Mahalakshmi always so that one does not faces dearth of money even in his life. The native is blessed with prosperity, progeny, good fortune by using this yantra. Ine can enjoy all kinds of physical and material pleasures by using this yantra. This yantra has the power to destroy all kinds of negativities in the life of a native and make life happy and prosperous.
The process of setting up the yantra:
This yantra is placed on the day of kaartik amavasya, one should take early bath and then go to his puja room with the yantra and offer panchamrit and flowers on it. Then one shold chant the mantra 108 or 1008 times ''ॐ महालक्ष्म्यै नम: / oṃ mahālakṣmyai nama:''. After this one should place the yantra in the office, cash box, or home safe locker.
Mahamrityunjay Yantra
Mahamarityunjay yantra is one of those yantras which has the blessings of lord shiva- The god of Death.   Thus since ages people are chanting mahamrityunjay mantra for people who are on death bed so that they can recover. This yantra has the power to ward off all kind of ill effects and evil acts done by enemies. This yantra can save person from premature death. Many people wear this as armour so that they are protected all the time.
The process of setting up the yantra:
Take bath early in the morning and then take this yantra to your pooja room or to the patient. Keep lord Shiva in mind all the time and ask for his blessings. Bathe the yantra in charnamrit and recite mahamrityunjay mantra atleast 51 times. Offer bilva patra and dhatura and milk to the yantra and then place it with the patient or at your pooja room. 
Shree Hanuman Yantra
It is said that Lord Hanumaana is always there with those who take his name in the time of distress. Shree Hanumaan ji yantra is the way to please the Lord and get rid of all kind of problems. This yantra gives knowledge, consciousness, wisdom and peace to the family of the native. Whenever one is in distress he should take the name of hanumanji and bow in front of the yantra and ask for his blessings and destruction of his enemies or destruction of his bad days with confidence and Lord will definitely listen to him.
The process of setting up the yantra:


The day of Hanumanji is Tuesday as per Vedic dictum so on Tuesday morning take a shower early in the morning and take this yantra to your pooja room and offer sindoor, rice, banana, flowers and incense to the yantra and then recite Shree Hanuman chalisa 21 times minimum and then put this yantra in your pooja room. Wear red clothes and eat red food i.e. rice in red garnishing etc. Eat fruits and have fast on this day in the morning. Break your fast in the evening with the food mentioned above.
You can also Chant the mantra 108 or 1008 times "हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् / haṃ hanumate rudrātmakāya huṃ phaṭ'' keeping lord Hanumanaa in heart and mind. After this place the yantra in your pooja room.
Shri Yantra
Shree yantra is another yantra for getting money and prosperity in life. This is one of those yantra which is used by all the people looking to get financial and social success in this life time. The yantra is supposed to be blessed by Goddess Lakshmi ji, the Goddess of wealth. One should place this yantra to get all kinds of siddhis and well being in his or her life time. One should place this yantra on the holy occasion of either navratri, mahashivraatri or deepawali or akshay triteeya.

The process of setting up the yantra:
You should consult an able pandit or an astrologer to put up this yantra. Take bath early in the morning and place this yantra on red cloth. You should wear red clothes too is possible. Offer panchamrit and sandalwood, red flowers, gulaal, roli, rice and the worship the yantra with the mantra. Recite  "ॐ महालक्ष्म्यै नम: / oṃ mahālakṣmyai namah: this mantra either 108 or 1008 times and then place it in your pooja room or in your safe locker or in your cash box.

So, this was all about the main yantras and I am sure you will use them to give you best results. You can get these yantras from us and our panditji will do all the necessary rituals required to make this yantra give you full effects. Rest assured that we leave no stone unturned and follow the vedic scriptures as it is without any kind of modifications.

नवरात्री पूजा विधि



माँ दुर्गा की कृपा और आशीर्वाद पाने के लिए यह ९ दिन सबसे लाभकारी माने गए हैं . पूरे विश्व में हिन्दू लोगों द्वारा नवरात्री में माँ दुर्गा का आह्वाहन करा जाता है . पश्चिम बंगाल में इसको सबसे मुख्य त्यौहार माना जाता है . माँ ही सबका कल्याण करती हैं और मनुष्य के दुःख पाप आदि का नाश करके उसको मुक्ति दिलाती हैं . हम आपको बता रहे है वह सुगम विधि जिसके द्वारा आप माता की कृपा प्राप्त कर सकते हैं और जीवन को सुखमय बना सकते हैं . पूजा काल के दौरान अथवा कभी भी पूजन में आपसे कोई त्रुटी हो जाए तो मन में यह जपिए कुपुत्रो जायेत क्वचिदपि कुमाता न भवतिऔर माँ से क्षमा मांग लीजिये .
पूजन सामग्री :
Ø माता का सुंदर सा चित्र,
Ø चुनरी,
Ø गीता प्रेस द्वारा प्रकाशित दुर्गा सप्तशती”,
Ø गंगाजल ,
Ø आम्रपत्र ,घास ,
Ø चन्दन, नारियल, रोली, लाल  धागा( मौली ),
Ø हवन कुंड तथा हवन सामग्री ( यदि आप हवन करना चाहते हैं तो )
Ø कच्चे चावल,
Ø पान , सुपारी , लौंग, इलाइची , कुमकुम , गुलाल ,
Ø अगरबती , धूपबत्ती , अखंड ज्योत के लिए दीपक
Ø गुलाब , कनेर अथवा चमेली के ताज़े फूल
Ø आसन
Ø प्रसाद हेतु सामग्री 
प्रातः सुबह उठकर स्नान आदि से निवृत्त होना चाहिए और आपके चुने हुए मुहूर्त में घट स्थापनाकरनी चाहिए. घट स्थापना हेतु सर्वप्रथम आपके पूजा स्थल पर जो की पूर्ण रूप से स्वच्छ हो , वहाँ देवी की मूर्ती अथवा चित्र की स्थापना करनी चाहिए. देवी जी के सामने कलश स्थापित करना चाहिए उसमें गेहूं भरकर , आम के पत्ते द्वारा उसका मुख सजा कर उसके अन्दर एक नारियल स्थापित करना चाहिए . गंगा जल द्वारा पूरे स्थान को सींचना चाहिए . फिर पान सुपारी रखनी चाहिए और विवाहित लोगों को २ पान रखने चाहिए. फिर कलश पर लाल धागा (मौली ) बाँध देनी चहिये. बाजू में ही अखंड ज्योत की स्थापना करनी चहिये जिसमे जातक अपने सामर्थ्य अनुसार तेल अथवा घी का चयन कर सकता है .
इसके पश्चात जिन साधकों हवन करना हो वे इस मंत्र के साथ हवन कर सकते हैं – “ॐ एम ह्रीं क्लीमं चामुण्डाय विच्चे नमःइस मंत्र के साथ ११ या १०८ आहुतियाँ देनी चाहिए. जिनको हवन नहीं करना हो वे मात्र मंत्र १०८ बार पढ़ कर भी पूजा कर सकते हैं . इसके पश्चात देव्यप्राध क्षमापन स्तोत्र का पाठ पूर्ण श्रद्धा से करना चाहिए.
जिन साधकों को व्रत करना हो वे ९ दिन तक व्रत कर सकते हैं और जिनको स्वास्थ्य में समस्या हो वे फलाहार आदि का सेवन कर सकते हैं. इन ९ दिन तक साधक को चाहिए की वह अपना आचरण उत्तम रखे और सात्विक वृत्ति अपनाए रहे .किसी भी प्रकार का नशा आदि नहीं करे और न ही मन में कुत्सित विचारों को जगह बनाने दे.
देवी जी के नौ रूपों का नित्य ही इस प्रकार पूजन और हवन करना चाहिए तथा मन में पूर्ण विश्वास रखना चहिये की आपकी समस्त बाधाओं का अंत देवी जी करेंगी .




शुक्र की शांति के उपाय मन्त्र और रत्न



Feed sugar to black ants.
Donate white sweets and clothes to a person with one eye.
White stone must be fitted in home.
Touch feet of a girl less than 10 yearsBest Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now..
Take bath with cow milk on Friday.
If you get a chance to do “kanyadaan” then don’t say no to itBest Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now..


शांति के उपाय -:
- काली चींटियों को चीनी खिलानी चाहिए।
- शुक्रवार के दिन सफेद गाय को आटा खिलाएं।
- किसी काने व्यक्ति को सफेद वस्त्र एवं सफेद मिष्ठान का दान करना चाहिएBest Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now.
- किसी महत्त्वपूर्ण कार्य के लिए जाते समय १० वर्ष से कम आयु की कन्या का चरण स्पर्श करके Best Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now.आशीर्वाद लेना चाहिए।
- अपने घर में सफेद पत्थर लगवाना चाहिए।
- किसी कन्या के विवाह में कन्यादान का अवसर मिले तो अवश्य स्वीकारना चाहिए।
- शुक्रवार के दिन गौ-दुग्ध से स्नान करना चाहिए।

A benefic Venus will give many goodies to the native and a malefic one will be very bad for him. The mantras for Venus are:

Vedic Mantra:
ऊँ अन्नात्परिस्रुतो रसं ब्रह्मणा व्यपिबत क्षत्रं पय: सेमं प्रजापति:
ऋतेन सत्यमिन्दियं विपान ग्वं, शुक्रमन्धस इन्द्रस्येन्द्रियमिदं पयोय्मृतं मधु।।
Gayatri Mantra:
ऊँ भार्गवाय विद्महे शुक्लांबराय धीमहि तन्नो शुक्रः प्रचोदयात्।
Beej Mantra:
ऊॅं हृीं श्रीं शुक्राये नमः।
Tantrik Mantra:
ऊॅं द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राये नमः।


इस ग्रह को जीवन में प्राप्त होने वाले आनंद का प्रतीक माना गया है।  शुक्र ग्रह से प्रभावित व्यक्ति सौम्य एवं अत्यंत सुंदर होते है। यदि किसी की कुंडली में शुक्र शुभ प्रभाव देता है तो वह जातक आकर्षक, सुंदर और मनमोहक होता है।Best Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now. शुक्र के विशेष प्रभाव से वह जीवनभर सुखी रहता है। यदि शुक्र निर्बल अथवा दुष्प्रभावित हो तो भौतिक अभावों का सामना करना पड़ता है। शुक्र ग्रह को के प्रभाव को कम करने के उपाय -:
वैदिक मंत्र  -:
ऊँ अन्नात्परिस्रुतो रसं ब्रह्मणा व्यपिबत क्षत्रं पय: सेमं प्रजापति:
ऋतेन सत्यमिन्दियं विपान ग्वं, शुक्रमन्धस इन्द्रस्येन्द्रियमिदं पयोय्मृतं मधु।।
गायत्री मंत्र -:
ऊँ भार्गवाय विद्महे शुक्लांबराय धीमहि तन्नो शुक्रः प्रचोदयात्।
बीज मंत्र -:
ऊॅं हृीं श्रीं शुक्राये नमः।
तांत्रिक मंत्र -:
ऊॅं द्रां द्रीं द्रौं सः शुक्राये नमः।

The stones for Venus are Diamond and Opal. One can wear white sapphire also.
शुक्र के लिए हीरा , ओपल अथवा सफ़ेद पुखराज धारण करना चाहिए .






शुक्र ग्रह का बारह भावों पर प्रभाव



प्रथम घर -: इन जातकों की कला और संगीत में रूचि होती है। यह शारीरिक गतिविधियों में लिप्‍त रहते हैं। कुछ मामलों में इन लोगों का छोटी उम्र में विवाह हो जाता है। वैसे तो इन जातकों का भाग्‍य अच्‍छा होता है लेकिन शुक्र के पीडित होने की स्थिति में इनके वैवाहिक जीवन में परेशानियां आती हैं Best Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now.

दूसरा घर -: ऐसे जातकों को समृद्धि के साथ-साथ उत्‍तम जीवनसाथी की प्राप्‍ति होती है। यह दिखने में सुंदर होते हैं और विलासिता पूर्ण जीवन पर खर्च करते हैं।

तीसरा घर -: इनमें उतकृष्‍ट मानसिक क्षमता और विशेषता होती है। इनका स्‍वास्‍थ्‍य अच्‍छा नहीं रहता। आर्थिक रूप से भी यह जातक सफल नहीं हो पाते।

चौथा घर -: यह जातक भाग्‍यशाली होते हैं एवं इनके पास कई वाहन होते हैं। इनका अपना घर होता है। इन्‍हें अपनी माता से अत्‍यधिक प्रेम रहता हैBest Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now.

पांचवा घर -: इन जातकों को अवश्‍य ही पुत्री की प्राप्‍ति होती है। यह कवि, संगीत लेखक, गीतकार या अभिनेता बनते हैं। इन्‍हें सरकार की ओर से सम्‍मान प्राप्‍त होता है।

छठा घर -: इस दशा में जातक सहयोगी स्‍वभाव का होता है एवं उसके शत्रुओं की संख्‍या काफी कम होती है।

सातवां घर -: यह जातक झगड़ालू, ईर्ष्‍यालु और सेक्‍स संबंधों में लिप्‍त रहते हैं। इनमें काफी बुरी आदतें होती हैं। अधिक सेक्‍स संबंधों के कारण यह नपुंसक भी हो सकते हैंBest Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now.

आठवां घर -: इनके पास संसार के सारे सुख होते हैं। इन जातकों की माता जीवन के लिए खतरा रहती हैं। यह संसार का त्‍याग कर सकते हैं।

नौंवा घर -: यह जातक सभी प्रकार के सुखों का आनंद उठाते हैं। ऐसे लोग अत्यंत धनवान होते हैं एवं इनकी रूचि धार्मिक कार्यों में रहती है। इन्‍हें सगे भाइयों का सुख मिलता है। यह व्यक्ति आस्तिक, गुणी, प्रेमी, राजप्रेमी तथा मौजी स्वभाव का होता है।

दसवां घर -: दशम भाव में शुक्र के होने पर व्यक्ति लोभी व कृपण स्वभाव का बनता है। इन्‍हें जीवन में संतान सुख का अभाव रहता है।Best Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now. यह जातक विलासी, धनी, हस्त कार्यों में रुझान रखने वाला एवं स्वभाव से शक्की होता है।

ग्‍यारहवां घर -: ग्यारहवें स्थान पर शुक्र की उपस्थिति में जातक को प्रत्येक कार्य में लाभ प्राप्त होता है। यह जातक सुंदर, सुशील, कीर्तिमान, गुणवान, भाग्यशाली, धनी, लोकप्रिय तथा पुत्र सुख भोगने वाला होता है। यह व्यक्ति जीवन में कई कीर्तिमान स्थापित करते हैंBest Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now.

बारहवां घर -:Best Quality Opal. Amazon assured and delivered. Buy now. बारहवें भाव में शुक्र हो तो जातक को द्रव्यादि की कभी कोई कमी नहीं रहती। यह जातक स्‍थूल, पराई स्‍त्री पर नजर रखने वाला, आलसी, प्रेमी, तथा शत्रुनाशक होता है।

सूर्य की शांति के उपाय रत्न और मंत्र


सूर्य आत्माकारक ग्रह है, यह राज्य सुख, सत्ता, ऐश्वर्य, वैभव, अधिकार, आदि प्रदान करता है। यदि सूर्य भगवान प्रसन्न रहें तो आपका जीवन सुखमय एवं मान-सम्मान से भरा रहता है। Best quality ka maanikya ratn. abhi lijiye discount pe.amazon ka bharosa.अपने जीवन में सुख के आगमन हेतु जानिए सूर्यदेव को प्रसन्न करने के उपायों के बारे में -:
- प्रात:काल सूर्य देव का अर्घ्‍य देने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है और मनुष्य सफलता पाता है। धन संबंधी परेशानी एवं सभी प्रकार की नकारात्मकता दूर होती है।
- सूर्यआदित्यहृदयस्तोत्र का नियमित पाठ करने से जीवन के सारे कष्टों से मुक्ति मिलती है। यह विशेष फलदायी उपाय है। इसका पाठ करने से शत्रु की पराजय और रोग से छुटकारा मिलता है।
- शारीरिक और मानसिक विकारों को दूर करने के लिए नियमित रूप से सूर्य देव को अष्टांग प्रणाम करें।
- सूर्यदेव से शुभफल की प्राप्ति हेतु रविवार के दिन प्रात: सूर्योदय के समय बहते पानी में गुड़ को प्रवाहित करें।
- सूर्य की प्रबल स्थिति के लिए तर्जनी उंगली में माणिक्य अथवा तांबे की अंगूठी धारण करें Best quality ka maanikya ratn. abhi lijiye discount pe.amazon ka bharosa.
- कुण्डली में सूर्य कमज़ोर है तो पिता एवं अन्य बुजुर्गों की सेवा करनी चाहिए इससे सूर्य देव प्रसन्न होते हैं।
- सूर्यदेव से अधिक उत्त़म फल पाने हेतु बीज मंत्रों का जाप करेंBest quality ka maanikya ratn. abhi lijiye discount pe.amazon ka bharosa.
- गुड़, सोना, तांबा और गेहूं का दान भी सूर्य ग्रह की शांति के लिए उत्तम माना गया है। सूर्य से सम्बन्धित रत्न का दान भी उत्तम होता है।

रत्‍न

सूर्य के सकारात्‍मक प्रभाव को बढ़ाने के लिए माणिक्य धारण करना चाहिए। किंतु यदि सूर्य शुभ नही है तो माणिक्य धारण करने से इसका सकारात्मक फल नहीं मिल पाता हैBest quality ka maanikya ratn. abhi lijiye discount pe.amazon ka bharosa.
माणिक्‍य रत्‍न एक मूल्‍यवान रत्‍न है। यदि कोई इसे खरीदने में असक्षम है तो वह इसके स्‍थान पर स्‍पाइनेल, गारनेट, जिरकॉन या एजेट धारण कर सकता है।

सूर्य नौ ग्रहों में राजा है और मनुष्‍य की आत्‍मा का कारक है। कहते हैं यदि कुंडली में सूर्य शुभ स्थिति में है, तो जातक के जीवन को भाग्‍य, लक्ष्‍मी, आरोग्‍य, मान सम्‍मान, यश और कीर्ति से भर देता है, लेकिन कुंडली में यदि सूर्य खराब है तो अपनी अशुभ स्थिति के चलते जातक को न केवल रोगी बना देता है बल्कि मान सम्‍मान, आत्‍मविश्‍वास में भी कमी देता हैBest quality ka maanikya ratn. abhi lijiye discount pe.amazon ka bharosa.। इस ग्रह के कुप्रभाव को कम करने के उपाय-:
वैदिक मंत्र -:
ऊँ आकृष्णेन रजसा वर्तमानो निवेशयन्नमृतं मर्त्यण्च।
हिरण्य़येन सविता रथेन देवो याति भुवनानि पश्यन।।
गायत्री मंत्र -:
ऊँ आदित्याय विद्महे भास्कराय धीमहि तन्नो सूर्यः प्रचोदयात्।
बीज मंत्र -:    
ऊॅं हृीं घृणिः सूर्याय नमः।
तांत्रोक्‍त मंत्र -:
ऊॅं हृॉ हृीं हृौं सः सूर्याय नमः।
शांति के उपाय -:
- रविवार के दिन गुड़, सोना, तांबा और गेहूं का दान करें।
- सूर्य को बली बनाने के लिए व्यक्ति को प्रातःकाल सूर्योदय के समय उठकर लाल पुष्प वाले पौधों एवं वृक्षों को जल से सींचना चाहिएBest quality ka maanikya ratn. abhi lijiye discount pe.amazon ka bharosa.
- रात्रि में ताँबे के पात्र में जल भरकर सिरहाने रख दें तथा दूसरे दिन प्रातःकाल उसे पीना चाहिए।
- ताँबे का कड़ा दाहिने हाथ में धारण किया जा सकता है।
- लाल गाय को रविवार के दिन दोपहर के समय दोनों हाथों में गेहूँ भरकर खिलाएंBest quality ka maanikya ratn. abhi lijiye discount pe.amazon ka bharosa.
- किसी भी महत्त्वपूर्ण कार्य पर जाते समय घर से मीठी वस्तु खाकर निकलना चाहिए।
- हाथ में मोली (कलावा) छः बार लपेटकर बाँधने से लाभ होता हैBest quality ka maanikya ratn. abhi lijiye discount pe.amazon ka bharosa.
- लाल चन्दन को घिसकर जल में डालकर स्‍नान करें।

Bhava Lords in Houses