Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2014

VENUS TRANSIT IN CAPRICORN

VENUS IN CAPRICORN 2014 On 26 th february Venus will be moving to capricorn a sign of his good friend saturn. She will be joining regtrograde mercury. Capricorn is an earthy sign,  which is secretive also. The transit will be having following effects on the natives: 1)       ARIES: Venus is maraka planet for aries, being lord of 2 and saturn is badhaka being lord of 11. Venus will be in sign of saturn thus maraka badhaka will be joining hands in a way. It will pass through uttrashadaha , shravan and dhanishta constellations.planet gives result of its star lord and the nature is decided by the sub it occupies during transit. The natives will have problems in personal life, delays in getting results, their house will be needing extra attention and there may be problems from children. There could also be loss in speculation. 2)       TAURUS: There will be pious deeds performed by you to show off. Long travels are also there. Servants and pets will give problems. There could be tr

शुक्र का मकर में गोचर

शुक्र का मकर में गोचर  २८ फरवरी को शुक्र मकर राशी में प्रवेश करेगा  जो की सके मित्र की राशी है , वक्री बुध भी यहाँ उपस्थित है .इसके निम्न प्रभाव हो सकते हैं : 1)       मेष : कार्यों में विलम्ब और मानसिक तनाव रह सकता है .घर और संतान पक्ष से समस्या आ सकती है .सट्टे में धन हानि हो सकती है . 2)       वृषभ : आपके द्वारा धार्मिक कार्य हो सकते हैं ,लम्बी यात्रा हो सकती है ,नौकरों और पालतू जानवरों से कष्ट हो सकता है , अपच की भी सम्भावना है किन्तु आपको नाम और सम्मान की भी प्राप्ति के योग बने हुए हैं . 3)       मिथुन : विरोधियों से धनलाभ हो सकता है ,किन्तु आपका आत्मबल कम ही रहेगा जिसके कारण दिक्कत आएगी और आपकी दुविधा पूर्ण विचारशैली भी समस्या देगी. आपको गुप्त सम्बन्ध बनाने में बहुत रूचि जाग्रत होगी . 4)       कर्क : आपको शरीर के जल स्त्राव आदि कार्य के कारण दिक्कत आ सकती है .पत्नी या पति के द्वारा लाभ की भी संभवना है. कार्य क्षेत्र अच्छा रहेगा और आप अपने स्तर को बढाने के लिए भी सोच सकते हैं. 5)       सिंह : गुप्त रोग परेशान कर सकते हैं , धन की आवक अच्छी रहेगी . खर्चे नियंत्रण के

सूर्य का कुम्भ में गोचर 2014

सूर्य का कुम्भ में गोचर  2014 ग्रहों के राजा सूर्य कुम्भ में विचरण करने वाले हैं. कुम्भ उनके पुत्र और शत्रु शनि की ज्ञानवान राशि है जिसमें मंगल राहू और गुरु के नक्षत्र आते हैं.सूर्य के साथ बुध भी आ जाएय्गा और दोनों पर ब्रहस्पति की द्रष्टि  भी पड़ेगी . बुध और ब्रहस्पति वक्री है , इसके सामान्य प्रभाव निम्न हो सकते हैं : 1)       मेष : आपको कुछ समय के लिए प्रसिद्धि मिल सकती है , बच्चे बीमार हो सकते है , आपके द्वारा हास्यास्पद त्रुटियाँ हो सकती है , अधिकारी वर्ग का मिजाज़ नरम गरम होता रहेगा .घर में क्लेश रह सकता है . 2)       वृषभ  : आपको ऋण मिल सकता है , कार्य में प्रगति है ,आपको आलस और कमजोरी रह सकती है , उलटी आँख में परेशानी हो सकती है . 3)       मिथुन : आप प्रतिस्पर्र्धा में हार सकते हैं ,निवेश में भी हानि की संभावना है ,दोस्तों के साथ मौज मस्ती पर जा सकते हैं धार्मिक कार्य भी कर सकते हैं , आप में से कुछ प्यार और मन की शांति के लिए भटकेंगे. 4)       कर्क : कार्य में प्रगति है , घर में कुछ बदलाव कर सकते हैं ,आप बच्चों से दूर जा सकते हैं कुछ दिनों के लिए ,घर में वृद्ध लोगों के

SUN IN AQUARIUS

SUN IN AQUARIUS  Sun  the ruler of planetary kingdom, will be moving to Aquarius, the sign of knowledge ruled by Saturn – the son of sun. It will be passing through constellations of Mars,Rahu, Jupiter. It will be joining Mercury and will be aspected by Jupiter. Both these planets are retrograde. The general effects on various ascendants would be : 1)       ARIES: you will be making erroneous judgments. Your children may become ill and their scholastic performance will become inferior. You will be prone to fevers and sickness. There will be strife in the family. You may meet old friends and gain popularity for a while but you will not enjoy it. 2)       TAURUS: You may apply for a loan. There will be professional progress. You will lose money in speculation. You will be hiding you innate desires from others. There could be trouble in left eye. You will feel weak and lethargic. 3)       GEMINI: you will lose in competition. There is possibility of losses in speculative activit

मंगल का तुला में गोचर

मंगल का तुला में गोचर ४ फरवरी को मंगल अपने ही जैसे क्रूर् ग्रहों शनि और रहू से युति करने वाला है.अभी तो मंगल कुछ दिन में वक्री हो जाएय्गा मगर जब वापस तुला में आएगा तब निश्चित ही विश्व का माहोल और ख़राब होगा. हम देखेंगे की वायु दुर्घटना बढ़ जायेंगी और रेल दुर्घटना भी बढेंगी.तीनों में रहू सबसे ख़राब गृह है और शनि रहू मंगल मिलकर बहुत उत्पात मचाएंगे. राहू के कारण मंगल प्रधान लोगों की पाशविकता बढ़ जायेगी और वे घिनोने कृत्य अंजाम देंगे. चोरी डकैती बलात्कार लूट की घटना बढ़ जायेंगी. आगजनी की घटनाएं और बढ़ जायेंगी. स्त्रीयों पर अत्याचार बढ़ेंगे और हम समाचार पत्रों में जघन्य हत्या और बलात्कार की खबरें अधिक देखेंगे. स्त्रीयां आत्महत्या भी करेंगी. कानून धर्म फिल्म जगत के लोगों के लिए अछ्हा समय नहीं रहेगा. जहरखुरानी की घटनाएं बढ़ जायेंगी. विभिन्न लग्न के जातकों पर इसका निम्न प्रभाव पढ़ सकता है: 1)       मेष : सप्तम में शनि रहू पहले से ही बैठे हैं और मंगल के आने से आपका पारिवारिक जीवन अस्तव्यस्त हो सकता है .आपको नेत्रों , पेट और गुप्तांगों में समस्या आ सकती है.आपको अपना आप नहीं खोना है अन्यथा आप बड़ी मु

MARS TRANSIT IN LIBRA

MARS TRANSIT IN LIBRA Mars will be joining rahu and saturn in Libra on 4 th february and will make things worse than they already are. Three malefics together in an airy sign are enough to crash many flights worldwide and make trains collide with each other causing many deaths. Rahu is the most malefic planet here increasing the beastial instinct of mars and secrecy of saturn. We will see many bad news making way in the front pages of national and international newspapers and electronic media in the period till mars remains in Libra. Incidents of thefts, dacoity, death by poisoning etc will increase and fire incidents will also increase in this time. Female security and respect will remain in question as usual and we may hear more news of females committing suicide and succumbing to social pressures. This will not be a good time for religious people, law people, film and fashion industry people etc. The general effects on various ascendants will be : 1)       ARIES: Saturn and r

ज्योतिष और मनुष्य के अनैतिक यौन सम्बन्ध

                ज्योतिष और मनुष्य के अनैतिक यौन सम्बन्ध ज्योतिष ज्ञान का अथाह सागर है जिसमें जाने पर थाह नहीं मिलती. गुरूजी कृष्णामूर्ति जी ने ज्योतिष को नयी दिशा दी और उनके सिद्धांतों का अनुसरण करने वाले लोगों ने उसे नयी ऊँचाइयों पर पहुँचाया. और यह प्रयास सतत जारी है. Best Sex pills for men. Amazon delivered. Buy Now. मनुष्य के जीवन में कई बार ऐसे मोड़ आते हैं जहाँ उसे नैतिक और अनैतिक में से एक का वरन करना होता है और इस कलयुग में मनुष्य की लिप्सा और तृष्णा का कोई अंत नहीं है चाहे वह स्त्री हो या पुरुष. आज के समय में किसी को अच्छे बुरे की परवाह नहीं है और सभी लोग अंधों की तरह अपने स्वार्थों की पूर्ती करने में लगे हुए हैं. हम रोज़ ही अखबारों में पढ़ते रहते हैं की फलां स्त्री का अनैतिक यौन समबन्धों के कारण क़त्ल हो गया, फलां के साथ वैसा हो गया. आजकल स्वाप्पिंग का चलन भी बहुत हो चूका है और हमारे जाने बिना यह बढ़ता ही जा रहा है. कॉलसेंटर कल्चर ने भी स्त्री पुरुष के विवाह पूर्व और विवाहेतर समबन्धों को बढाने में बहुत योगदान दिया है. इन्हीं सब कारणों के चलते विवाह नाम की क्रिया और परिवार ना