Thursday, October 15, 2015

बुध का मकर में गोचर

                                   

                                        


                                              बुध का मकर में गोचर


१)  मेष : तृतीयेश और षष्ठेश के दशम में जाने से आपको लाभ ही होगा। आपकी कार्यकुशलता पैनी होगी और आपकी बातों में और अधिक बेहतरी होगी। प्रेम संबंधों के लिए भी अच्छा समय है और आपके घर में भी लोगों से आपके समबनध और मधुर होंगे। स्वास्थ्य में थोड़ी कमी आ सकती है और वह भी तब जबकि आप  प्रतयनतर दशा से गुज़र रहे हों। आपके प्रयासों में तेजी बनी रहेगी और आपको उसका भरपूर लाभ भी मिलेगा। शिक्षारत लोगों के लिए भी अच्छा समय है और किसी वैकल्पिक उत्तर वाली परीक्षा को देने से लाभ संभव है।


२) वृषभ : धनोपार्जन के लिए अच्छा समय है, आपको अपने पूर्ण प्रयास जारी  रखने चाहिए। लेखन में आपकी रूचि बन सकती है और पुस्तकों का अध्ययन कर सकते हैं। विविध विषयों जैसे राजनीति , इतिहास , दर्शन शाश्त्र , धर्मग्रंथों का आप अध्ययन कर सकते हैं।  यदि आप साधक हैं तो अपने गुरु से मिलने जा सकते हैं अथवा वे आपके पास आ सकते हैं।  कोई नया समझौता पूर्ण होने की सम्भावना है। यह गोचर आपके लिए आम तौर पर शुभ ही रहने वाला है और आपको आंतरिक आनंद की अनुभूति भी देकर जा सकता है।


३) मिथुन : लग्नेश के अष्टम में जाने से कुछ परेशानी तो होगी , किन्तु बुध अधिक दिन तक एक राशि में नहीं रहता है अतः सब जल्दी ही पूरा हो जाएगा।  आपको अपनी मानसिकता को ऊर्जावान रखना ही सबसे बढ़िया तरीका है , स्वास्थ्य को लेकर कुछ परेशानी तो अवश्य ही हो सकती है मगर साथ ही मानहानि का भी अंदेशा है। अतः अपने कर्म और  वाणी पर संयम रखें। दूसरों की बातों को पूर्ण ध्यान से सुनें और उनका समाधान करने की कोशिश करें। विष्णुसहस्त्रनाम का पाठ करना भी आपके लिए अच्छा रहेगा।


४) कर्क : घर के सदस्यों पर धन का व्यय होगा जो की अच्छा ही है , फ़ालतू खर्च करने से तो घर वालों की आवश्यकताओं  को पूर्ण करना ही मुख्य दायित्व होना चाहिए। मन में सुखद तरंगें चलती रहेंगी किन्तु साथ ही मन अनिर्णय के स्थिति में आ जाएगा।  आपको चाहिए की अपने निर्णयों को लेने में अधिक विचार विमर्श न करके थोड़ा कम समय में निष्कर्ष पर पहुँचें। प्रेम संबंधों में अच्छी प्रगति का योग है , निजी जीवन भी अच्छा रहने वाला है। आखिर इस से अधिक किसी को और क्या चाहिए हो सकता है ?


५) सिंह : स्वास्थ्य को लेकर कुछ सामान्य परेशानी रह सकती है ,आपको नौकरी बदलने के लिए उचित समय है।इस समय में दूर की  यात्राओं से बचना ठीक है क्योंकि आपको हानि के योग अधिक हैं और लाभ के कम।स्वयं के प्रयासों से आपको सफलता मिलेगी अतः अपने प्रयासों में कोई कमी नहीं आने दीजिये और आशावान बने रहिये। आपको भाग्य  का साथ भी मिलेगा और आपके कई काम भी बनेंगे। किन्तु अधिक आशावादिता में ऐसा न हो जाए की आप अपने प्रयासों में कमी कर दें। इस बात का ध्यान रखिये की कर्म हीन  नर कछु पावत नाहीं।


६) कन्या : दूसरों को सलाह मश्वरा देने के लिए अच्छा गोचर है , वैसे तो हम लोग मुफ्त में सलाह देने के लिए विश्वप्रसिद्ध हैं ही किन्तु यह समय ज्योतिषीय मापदंड से भी उत्तम है। आपको अपने अहंकार पर नियंत्रण रखना है।  इस से किसी का कभी भला नहीं हुआ। मित्रों के साथ बहुत आनंद लेंगे और उनसे आपको आर्थिक लाभ भी होगा। आपको भी  उनकी सिर्फ मौखिक ही नहीं बल्कि हर तरह से मदद करनी चाहिए। कला मीडिया आदि में कार्यरत लोगों के लिए अच्छा समय है।
७) तुला : घर के लोगों में सामंजस्य बना रहेगा , आपको घर में किसी सुधार कार्य आदि पर खर्च करना हो सकता है, यदि आप किराए के मकान में रह रहे हैं और बदलने का सोच रहे हैं तो यह अच्छा समय है अपने उद्देश्य को पूर्ण करने के लिए , भाग्येश की दशम पर दृष्टि आपके कामों को सरल बनाएगी और प्रगति की और अग्रसर करेगी। निजी जीवन भी अच्छा रहेगा ,प्रेम सम्बन्ध भी आपके ठीक चलेंगे। खर्चे का आपको ध्यान रखना है , जिससे की वे सीमा के पार न हो जाएँ। नुक्सान आपका ही है। थोड़ा नियंत्रण रखिये और सब ठीक हो जाएगा।


८) वृश्चिक : आपका अपने  भाइयों से सुखद समाचार  मिल सकता है , आपकी संवाद शैली में सुधार आएगा और  आपके पास पड़ोस के लोगों से आपके सम्बन्ध और बेहतर होंगे।  आपको अपने कार्य आदि के कारण आसपास के स्थानों की यात्रा करनी पड़ेगी जिसमें आपको लाभ भी रहेगा। आपको इस समय में किसी समझौते आदि को भी पूर्ण करने का अवसर मिल सकता है। आपको इस समय में अपने घर के बड़े लोगों की आज्ञा पूर्ण करनी चाहिए तथा दान पुण्य का  लाभ भी लेना चाहिए। आपमें एक ऊर्जा का संचार बना रहेगा जोकि आपको आगे बढ़ाता रहेगा।


९) धनु : धन के कारकों में से एक बुध भी होता है क्योंकि यह दशम भाव का करक माना जाता है , कर्म से ही धन आता है , और जब यह  दुसरे भाव  में गोचर करता है तो आपको धन तो देना ही चाहिए। अतः यह आपके लिए शुभ है। आपको धनलाभ तो होगा किन्तु आपको साथ ही कुछ मानसिक क्लेश भी हो सकता है। प्रेम संबंधों पर आपको काफी समय देना होगा , अच्छा भी है , आपको काफी धन भी इसी मद पर व्यय करना हो सकता है। अधिकारियों से आपकी अच्छी बनेगी  और आपके काम होते जाएंगे। ये गोचर आपके लिए काफी अच्छा रहेगा अगर आपकी बुध की प्रत्यंतर दशा चल रही हो।


१०) मकर : आपको यह गोचर  काफी लाभकारी रहेगा क्योंकि यह मंगल के नक्षत्र में भी काफी  रहने वाला है।  अतः आपके जो भी काम अधूरे पड़े हुए हैं और किसी तरह बुध गृह के अधिपत्य में आते हों तथा आपकी बुध की अंतर या प्रत्यंतर  दशा भी चल रही हो तो आपको अपने पूर्ण प्रयास करने चाहिए। आपकी सफलता के बहुत योग हैं।  व्यवसाइयों को जो जमीन का  व्यापार करते हैं उनको भी लाभ होगा। निजी जीवन अच्छा बना रहेगा रहेगा। घर में शांति रहेगी।


११) कुम्भ : धन को वापस करने के लिए अच्छा समय है , अगर किसी कारण से पहले नहीं हो पा रहा था तो अब कोशिश कीजिये - किसी का उधार रखना अच्छा नहीं होता है। घर से बाहर जाना हो सकता है , किसी  आवश्यक कार्य के कारण ऐसा कर सकते हैं। आपको लाभ ही रहेगा अतः ज़रूर अपने कामों को पूरा कीजिये।  कामकाज की स्थिति अच्छी रहेगी और आपके सम्बन्ध सभी से और प्रगाढ़ होंगे किन्तु प्रेम संबंधों में कुछ मनमुटाव रह सकता है जो अधिक दिन नहीं चलेगा। शत्रु भी आपको कष्ट नहीं दे पाएंगे और अधिकतर यह गोचर आपके हित में ही रहेगा अगर आपकी बुध की अंतर या प्रत्यंतर दशा चल रही है ,अन्यथा आपको उतना  लाभ नहीं होगा।

१२) मीन :  आपके प्रेम सम्बन्ध और प्रगाढ़ होंगे , आपको अनुमान आधारित आय के स्त्रोतों से आय संभव है - एक बार कोशिश करने में कोई हर्ज़ नहीं है। आपकी नौकरी आदि में भी आपका प्रदर्शन बेहतर होगा और आपके मित्र आपके लिए आगे बढ़ कर मदद करेंगे। आपको धन लाभ भी होगा और आप नयी वस्तुएं भी क्रय करेंगे। भाग्य आप पर कृपा दृष्टि बनाये रखेगा अतः आपको अपने सभी प्रयासों को पूर्ण शिद्दत से आगे बढ़ाना चाहिए।