अरुण जेतली का चुनावी भविष्य


अरुण जेतली भाजपा के टिकेट से मैदान में हैं, मैंने के पी क्रमांक १० चुना है . आइये देखते हैं की इनकी चुनावी टक्कर का क्या नतीजा हो सकता है :

जीत के लिए नियम : यदि छठे भाव का उपनक्षत्र स्वामी ६,१०,११ में से किसी का कार्येष गृह है तो व्यक्ति जीत सकता है अन्यथा यदि वह गृह ४,,१२ का कार्येष है तो वह हार जाता है. यदि वह दोनों प्रकार के भावों को सामान रूप से दर्शाता है तो महादशा अंतर और प्रत्यंतर स्वामी किन भाव के कार्येष हैं ये देखना चहिये
लग्न उपनक्षत्र  स्वामी शुक्र लाभ भाव में है.
छठे भाव का उपनक्षत्र स्वामी शनि सप्तम में है और वक्री है.

लाभ का उपनक्षत्र  स्वामी बुध लाभ में है और राहू के उपनक्षत्र  में छठे भाव में है.
निष्कर्ष : इनकी विजय होगी .