Sunday, March 16, 2014

श्री वरुण गाँधी का चुनावी भविष्य


भाजापा के युवा चेहरे और मेनका गाँधी के सुपुत्र श्री वरुण गाँधी सुल्तानपुर से चुनाव लड़ेंगे. वे वर्तमान में पीलीभीत से सांसद हैं  और वे अति शिक्षित व्यक्ति हैं. इनका जन्म १३ -३-१९८० को हुआ था. आइये देखते हैं की इनकी चुनावी कुंडली क्या कहती है :-


KP RULE FOR WINNING IN AN ELECTION: If the csl of 6th cusp is a significator of any of 6,10,11 houses then the person will qualify but if that csl signifies cusps 4,5,12 then the opponent wins. If he favors both equally the we have to see the significations of mahadasha- antardasha lord.

छठे घर का उपनक्ष्त्र स्वामी राहू तृतीय भाव में स्थित है. वह चंद्रमा के उपनक्ष्त्र में है जो द्वितीय भाव में है.
दशम का उपनक्ष्त्र स्वामी चन्द्रमा मंगल के उपनक्ष्त्र में है जो तृतीय भाव में है.
लाभस्थान का उपनक्ष्त्र स्वामी शनि चतुर्थ में है और वह सूर्य के उपनक्ष्त्र में है जो अष्टम भाव में है.
इस समय चंद्रमा द्वितीय भाव में है और मंगल के उपनक्ष्त्र में है जो तृतीय भाव में है.
इनकी विजय अत्यधिक असाध्य लग रही है क्योंकि चन्द्रमा और लाभेश दोनों ही साथ नहीं दे रहे हैं. महादशा सूर्य की है अंतर मंगल का और दोनों ही लाभेश से जुड़े हुए नहीं है.
निष्कर्ष :आपकी जीत अत्यधिक कठिन है और जहाँ तक समभव है आप विजयी नहीं हो पायेंगे.
उपाय : बजरंग बाण का ११००० बार जाप करने से या किसी सिद्ध ब्राह्मण द्वारा करवाने से आपका कार्य बन सकता है.