Monday, March 10, 2014

कन्या में वक्री मंगल का गोचर

कन्या में वक्री मंगल का गोचर २०१४
हम सब जानते है की मंगल एक पापी और क्रूर गृह है , गृह सभा में इसको सेनापति का दर्जा प्राप्त है और सेनापति हमेशा साहसी योद्धा उद्दंड और एकाधिकार  की प्रव्राती वाले हो जाते हैं. २५ मार्च को मंगल कन्या में वक्री गति से प्रवेश करेगा . हम जानते हैं की किसी गुंडे मवाली का जब दिमाग फिर जाता है तो वोह एक सिरदर्द बन जाता है समाज के लिए. मलेशिया का वायुयान दुर्घटना शुरुआत भर है .अभी हमको और भी बलात्कार , निर्मम हत्या , आगजनी , जहरखुरानी , असामयिक मृत्यु , आतंकवाद , जेह्रीले रसायनों के रिसाव आदि के समाचारों के लिए तैयार रहना चहिये .
भारत में अभी आम चुनाव होने वाले हैं, भारत अभी सूर्य महादशा और केतु अंतर से गुज़र रहा है, और यह २२-७-२०१५ अक रहेगी , आई सी सी २०-२० और आई पी एल भी इसी समय में होने हैं. इस गोचर के इन घटनाओं पर निम्न प्रभाव हो सकते हैं
१)       मंगल की द्रष्टि भारत के अष्टम , द्वादश  और लाभ स्थान पर है , इस चुनाव में हिंसा से मृत्यु आशा से अधिक होगी , छत्तीसगढ़ में जो नाक्साली विधानसभा चुनाव में अधिक नुक्सान नहीं कर पाए थे अब संभव है की सुरक्षा बालों को वे मूर्ख बना दें या हमें अपने और जवानों की बलि देनी पड़े. प्रमुख उम्मीदवारों को रस्ते से हटाने की पूर्ण कोशिश करी जायेगी और उन सज्जन , जिन पर सारे देश को निगाह अगले प्रधान मंत्री के रूप में देखने की है , पर अत्यधिक खतरा रहेगा और संभव है की किसी चूक के कारन बड़ा नुक्सान हो जाए. नेताओं को वायु यात्रा से बचना चहिये .
२)       क्रिकेट के दोनों मुकाबलों में विपरीत परिणामों की अधिकता रहेगी . खिलाड़ियों और अंपायर पर भी फिक्सिंग के आरोप लगेंगे और कुछ रंगे हाथ पकडे भी जायेंगे . खिलाडियों के जांघ , हड्डी ,नसों और आँखों में चोट लगने के प्रबल सम्भावना है और सर पर भी घातक चोट लग सकती है . अंपायर भी तेज़ शॉट का शिकार हो सकते हैं .
जातकों पर इक निम्न प्रभाव अपेक्षित है :
1)      मेष : अधिकारीयों से तनाव हो सकता है , सर पर चोट लग सकती है , पिता की तबियत थोड़ी बिगड़ सकती है .
2)      वृषभ : अधिक आयु के कुछ जातकों की सामान्य मृत्यु हो सकती है ,स्वास्थ्य परेशान करेगा ,प्रेम सम्बन्ध या तो बिगड़ सकते हैं या समाप्त हो सकते हैं .मानसिक अशांति बनी रहेगी.
3)      मिथुन :नौकरी बदल सकते हैं.निजी जीवन अशांत रहेगा .स्वास्थ्य की गंभीर समस्या हो सकती है और दिक्कत रक्त , आंत या दिल की हो सकती है .
4)      कर्क : संतान पक्ष से कष्ट हो सकता है , छोटी यात्रा और मनोरंजन की गतिविधियाँ संपन्न होंगी ,आप धनार्जन करेंगे और यश लाभ भी प्राप्त करेंगे .
5)      सिंह : हड्डी , दांत और रक्त से जुड़ी समस्या आ सकती है , धार्मिक कार्य संपन्न होंगे , कार्यक्षेत्र अच्छा रहेगा .भावुकता को प्रधानता देने की जगह तर्क और विवेक का आश्रय लेना उचित रहेगा .
6)      कन्या : निजी जीवन तनावपूर्ण रहेगा , स्त्री जातकों से धन और शयन्सुख की प्राप्ति हो सकती है .लोगों से अच्छा संपर्क बना रहेगा . आप दुर्घटना के शिकार हो सकते हैं.
7)      तुला : निजी जीवन में गंभीर विसंगति पनप सकती है , मासिक धर्म की शिकायत होगी , श्वेत  स्त्राव संभव है .आप अनियंत्रित अविवेकी और अशांत रहेंगे .
8)      वृश्चिक : पिता को समस्या आ सकती है , आपको पेट सम्बन्धी समस्या हो सकती है , शत्रु परेशान करेंगे . आप देवी दर्शन करने जा सकते हैं.लम्बी यात्रा कर सकते हैं .
9)      धनु :गुप्त शत्रु परेशान करेंगे , प्रसूता का गर्भ गिर सकता है , रक्त सम्बन्धी समस्या हो सकती है. फेफड़ों या छाती में परेशानी आ सकती है.
10)   मकर :घर मैं नवीन निर्माण करा सकते हैं , नए घर की तलाश में विलम्ब हो सकता है , साझेदारों से लाभ हो सकता है ,कन्धों में दर्द की समस्या आ सकती है.
11)   कुम्भ :स्त्रियों से कष्ट , कर्जों से परेशानी ,गुप्त आय हो सकती है .पथरी की समस्या आ सकती है . अधिकारियों से तनाव बन सकता है .सर्दी खांसी की शिकायत हो सकती है .

12)   मीन : प्रेम की भावना की अधिकता रहेगी .निजी जीवन में समस्या बनी रहेगी .बच्चों को मीठा खाने के इच्छा अधिक होगी . चेहरे पर कीड़ा काट सकता  है जिससे इन्फेक्शन हो सकता है . पुरुषों में गुप्तांगों की समस्या हो सकती है .